सूत्रधार कला संगम द्वारा हर वर्ष की भांति इस बार भी...

  सूत्रधार कला संगम द्वारा हर वर्ष की भांति इस बार भी 13वां सूत्रधार गुरू पूर्णिमा महोत्सव

कुल्लू

सूत्रधार कला संगम द्वारा हर वर्ष की भांति इस बार भी “13वां सूत्रधार गुरू पूर्णिमा महोत्सव” 27 जुलाई 2018 शुक्रवार को सूत्रधार संगीत अकादमी के माध्यम से देवसदन कुल्लू के सभागार में बड़ी धूमधाम से मनाया गया . संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन के अनुसार यह कार्यक्रम सूत्रधार संगीत अकादमी के प्रक्षिशुओं द्वारा अपने गुरू पं० विद्यासागर शर्मा के सम्मान में रखा गया . पं० विद्यासागर शर्मा जोकि जून 2005 से सूत्रधार कला संगम में प्रक्षिशुओं को बतौर प्रधानाचार्य शास्त्रीय नृत्य, संगीत व वादन की शिक्षा निरंतर प्रदान कर रहे . कार्यक्रम की शुरुआत सांय 4 बजे हुई, जिसमें शास्त्रीय गायन, वादन व नृत्य का समावेश रहा .

कार्यक्रम की शुरुआत सर्वप्रथम दीप प्रज्जवलन तथा सरस्वती वंदना से हुई से हुई . संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन ने अपने स्वागत भाषण में आये हुए सभी मेहमानों का स्वागत किया . उन्होंने प्रिंट मिडिया तथा इलेक्ट्रोनिक मिडिया का भी आभार प्रकट दिया . सूत्रधार संगीत अकादमी के प्रक्षिशुओं द्वारा अपने गुरू पं० विद्यासागर शर्मा को सम्मानित किया गया . इस कार्यक्रम में सूत्रधार संगीत अकादमी के लगभग 100 प्रक्षिशुओं ने भाग लिया . इन सभी प्रशिक्षुओं द्वारा एक से बढ़कर एक बेहतरीन प्रस्तुतियां दी गई, जिसने सभागार में बैठे सभी दर्शकों का मन मोह लिया .

कार्यक्रम की शुरुआत सर्वप्रथम दीप प्रज्जवलन तथा सरस्वती वंदना से हुई से हुई . संस्था अध्यक्ष दिनेश सेन ने अपने स्वागत भाषण में आये हुए सभी मेहमानों का स्वागत किया . उन्होंने प्रिंट मिडिया तथा इलेक्ट्रोनिक मिडिया का भी आभार प्रकट दिया . सूत्रधार संगीत अकादमी के प्रक्षिशुओं द्वारा अपने गुरू पं० विद्यासागर शर्मा को सम्मानित किया गया . इस कार्यक्रम में सूत्रधार संगीत अकादमी के लगभग 100 प्रक्षिशुओं ने भाग लिया . इन सभी प्रशिक्षुओं द्वारा एक से बढ़कर एक बेहतरीन प्रस्तुतियां दी गई, जिसने सभागार में बैठे सभी दर्शकों का मन मोह लिया.

इसमें सरस्वती बंदना में बिमला, अंजली, शिवानी, भुवनेश्वरी, गौरी, सिमरन, ट्विंकल, शम्भ्रा, चमना, संजू, कला तथा शैलजा, राग भोपाली में बिमला, अंजली, शिवानी, गुड्डी, कौंरा व शिवानी, राग असावरी में अविनाश. संजय, दयानन्द व सुदर्शन सिंह, फिल्म गीत लग जा गले में ईशा, राग यमन में सिमरन, गौरी, भुवनेश्वरी व कशिश, फिल्म डांस में अनन्या गुप्ता, तबला सोलो में कुमारी लिकिषा, सूफियाना में जीवन, मोहित, अंकुश, अभिनंदन व मनोज, राग शुद्ध कल्याण में शम्भ्रा व चमना, राग बिहाग में शैलजा, कला व चंद्रलता, राग गोरख कल्याण में संजू पठानिया, सेमी क्लासिकल डांस में कुमारी वृति, राग बागेश्री में ऋषभ आचार्य, राग दरवारी में यशोदा शर्मा, सेमी क्लासिकल डांस में कुमारी शगुन शर्मा, राग तिलंग में मोहित व अंकुश, सेमी क्लासिकल सोंग में मनोज भारती.

सेमी क्लासिकल डांस में काव्या व हिमानी, राग भोपाली में परणीता, भजन में क्षितिज शर्मा, लोक गीत में लाल सिंह, राग मालकोंस में गोबिंद, राग बहार में पायल.  राग झिंझोटी में ट्विंकल, राग भोपाली (बांसुरी) में उदय व कर्ण, सेमी क्लासिकल डांस में रिया व तनूजा, डॉ० सुरत ठाकुर, गिटार में पंकज, तबला में दीनदयाल व अमित महंत तथा हारमोनियम में पं० विद्यासागर शर्मा ने अपने गायन, नृत्य व वादन से सभागार में बैठे सभी दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया . कार्यक्रम में पधारे विशेष मेहमान कलाकार डॉ० आर० एस० शाण्डिल, नीरज शाण्डिल, पं० सीता राम, धीरज शाण्डिल तथा मदन झालटा को संस्था द्वारा कुल्लवी परम्परा अनुसार टोपी, मफलर व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया .

संस्था द्वारा पं० विद्यासागर शर्मा को भी टोपी, मफलर व स्मृति चिन्ह देकर विशेष सम्मान दिया गया . कार्यक्रम में पधारे हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध शास्त्रीय संगीतज्ञ डॉ० आर०एस० शाण्डिल सेवानिवृत्त प्रध्यापक (संगीत विभाग प्रमुख) हिमाचल प्रदेश युनिवर्सिटी व उनके सुपुत्र नीरज शाण्डिल जोकि राष्ट्रीय स्तर पर शास्त्रीय संगीत तथा तबला वादन में अनेकों बार हिमाचल का प्रतिनिधित्व कर चुके है ने विशेष मेहमान कलाकार के रूप में गुरु पूर्णिमा महोत्सव में अपनी संगीतमयी प्रस्तुतियों से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया .

डॉ० आर०एस० शाण्डिल ने राग मुल्तानी, राग पहाड़ी में ठुमरी अब के सावन घर आजा और भजन गाकर दर्शकों के भाव विभोर कर दिया . इनके साथ तबले पर नीरज शाण्डिल, हारमोनियम पर प० सीता राम, तानपूरे पर धीरज शाण्डिल व मदन झालटा ने संगत की . कार्यक्रम का मंच संचालन संजू पठानिया तथा संस्था के महासचिव सुंदर श्याम महंत द्वारा बखूबी निभाया गया . इस कार्यक्रम के अवसर पर डॉ० सूरत ठाकुर, प्रो० राजेन्द्र प्रसाद, रविकांता कश्यप, पूनम शर्मा, ईशिता.

आर गिरीश, गिरीश शर्मा, दलीप शर्मा, श्याम लाल हांडा, नारायण महंत, शुभम ठाकुर, हेमा शर्मा, राम चौहान आदि अनेक गणमान्य व्यक्तियों सहित संस्था के अध्यक्ष दिनेश सेन, वरिष्ठ उपाध्यक्ष यनिन्द्र कपूर, उपाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, महासचिव सुंदर श्याम, प्रैस सचिव राजेश शानू, सचिव मोनिका सागर व मंजू शर्मा, नाटक प्रभारी अंजुम गुप्ता, भण्डार प्रभारी तिलक राज, संगीत सहप्रभारी यशोदा शर्मा, वित् सहसचिव जोंगेंद्र ठाकुर, भण्डार सहप्रभारी माधवी कौशल, नाटक सहप्रभारी केतन वर्मा, लोकनृत्य सहप्रभारी सीमा शर्मा, प्रबंधक उत्तम चन्द भी उपस्थित रहे .

Print Friendly, PDF & Email

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY