योगी सरकार की लापरवाही, 48 बच्चों ने तोड़ा अस्पताल में दम |...

योगी सरकार की लापरवाही, 48 बच्चों ने तोड़ा अस्पताल में दम | News India Trust

81
0

उत्तर प्रदेश से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. जहां अस्पताल प्रशासन की या यू कहे योगी सरकार की लापरवाही से बहुत बड़ा हादसा हो गया. बताया जा रहा है की इस हादसे में 48 मासूम बच्चों ने अस्पताल के अंदर दम तोड़ दिया, और 50 से ज्यादा मरीजों की हालत गंभीर है. ये घटना गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज की है.

48 मासूम बच्चों ने अस्पताल के अंदर दम तोड़ दिया, और 50 से ज्यादा मरीजों की हालत गंभीर है. ये घटना गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज की है.

अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी ने 69 लाख रुपये ना मिलने की वजह से गुरुवार से अस्पताल में ऑक्सीजन की सप्लाई रोक दी थी. जिसके कारण 48 बच्चों की मौत हो चुकी है. लेकिन अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी से साफ इंकार कर दिया.

सूत्रों के अनुसार अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन तो गुरुवार से ही ख़त्म हो गया था, और शुक्रवार को सारे सिलेंडर भी खत्म हो गए थे. इंसेफेलाइटिस वार्ड के  मरीजों ने दो घंटे तक अम्बू बैग का सहारा लिया. इस हादसे के पीछे अस्पताल प्रशासन की लापरवाही को साफ देखा जा सकता है.

अस्पताल प्रशासन ने अपनी सफाई में कहा की ऑक्सीजन की कमी से किसी भी मरीज की मौत नही हुई. डॉक्टरों ने बताया की 7 मरीजों की विभिन्न चिकित्सीय कारणों से 11 अगस्त को मृत्यु हुई थी. प्रशासन ने घटना के  मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दे दिए हैं. डीएम ने 5 सदस्यीय टीम गठिक की है. जो आज अपनी रिपोर्ट सौंपेगी.

वहीं दूसरी तरफ इस मामले ने राजनीतिक रुख अपना लिया है. विपक्ष ने इस हादसे को योगी सरकार की लापरवाही बताना शुरू कर दिया है. इस मामले पर यू.पी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट के जरिए निशाना साधते हुए कहा,  ‘गोरखपुर मे ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की दर्दनाक मौत, सरकार ज़िम्मेदार. कठोर कार्रवाई हो, 20-20 लाख का मुआवज़ा दे सरकार’.

Akhilesh Tweet on Gorakhpur | News India Trust
Akhilesh Tweet on Gorakhpur | News India Trust

जिलाधिकारी ने तुरंत मेडिकल कॉलेज में पहुंचे कर  स्थिति का जायजा लिया, तथा निर्देश दिए कि चिकित्सा व्यवस्था में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही होगी. जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने बताया कि बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में आक्सीजन सिलेंडर की कमी नहीं है. मेडिकल कॉलेज प्रशासन द्वारा बताया गया है कि लगभग 175 आक्सीजन सिलेण्डर उपलब्ध हैं.

सूत्रों ने बताया की गुरुवार से ही मेडिकल कालेज में जम्‍बो सिलेंडरों से गैस की आपूर्ति की जा रही है. बीआरडी मेडिकल कालेज में दो साल पहले लिक्विड ऑक्‍सीजन का प्‍लांट लगाया गया था. इसके जरिए इंसेफेलाइटिस वार्ड सहित करीब तीन सौ मरीजों को पाइप के जरिए ऑक्‍सीजन दिया जाती है.

अस्पताल में शुक्रवार सुबह सात बजे ऑक्‍सीजन पूरी तरह खत्‍म हो जाने के बाद इंसेफेलाइटिस वार्ड में करीब दो घंटे तक मरीजों को अम्‍बू बैग के सहारे रहना पड़ा. 12 बजे थोड़े ऑक्‍सीजन सिलेंडरों अस्पताल में पहुंचे लेकिन इंसेफेलाइटिस इमरजेंसी वार्ड में अभी भी सिलेंडरों की कमी वैसी ही बनी हुई है.

 

Print Friendly

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY